वायुमंडल किसे कहते है

vayumandal kise kahate hain – इस पोस्ट में वायुमंडल के बारे में पढ़ेंगे | यहाँ हम पढ़ेंगे वायुमंडल किसे कहते है , वायुमंडल क्या होता है , वायुमंडल को कितने भागों में बांटा गया है एवं वायुमंडल में कौन कौन सी गैस पाई जाती है |

vayumandal kise kahate hain
vayumandal kise kahate hain

वायुमंडल किसे कहते है

हमारी पृथ्वी पर जीवन संभव होने के लिए महत्वपूर्ण रूप से वायुमंडल व जलमंडल व स्थलमंडल होना अतिआवश्यक है | और जब ये तीनो हमे उपलब्ध हो जाते है तो वहा जीवन जीना सफल हो जाता है अत: हमारे जीवन में वायुमडल एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है |

हमारी पृथ्वी के वातावरण में फेली गेसो का आवरण ही वायु मडल कहलाता है | यह गेसो का आवरण एक सम्मलित रूप से सभी का एक मिश्रित रूप होता है जिसमे बहुत सी गैसे पाई जाती है जिनमे नाइट्रोजन बहुत अधिक मात्रा में पाई जाती है उसके बाद आक्सीजन व अन्य गेसे पाई जाती है किन्तु आक्सीजन गेस मनुष्य के जीवन के लिए महत्वपूर्ण होती है क्यों की यह गैस मानव के शवसन किया में आक्सीजन गेस को ग्रहण किया जाता है अत: इन सभी गेसो के सम्मलित रूप को वायु मंडल कहते है |

यह भी पढ़े –

वायुमंडल को कितने भागो में बाटा गया है

मुख्य रूप से वायु मंडल को पांच भागो में बाटा गया है जो इस प्रकार है –

  • बाहा मंडल
  • आयन मंडल
  • मध्य मंडल
  • समताप मंडल
  • क्षोभ मंडल

👉 1 – बाहा मंडल – लगभग 640 से उपर की परत को बाह्य मंडल कहते है इस मंडल की अधिकतम सीमा निशचत नही है इस मंडल में सभी हल्की गेसे पाई जाती है | पृथ्वी पर जितने भी संचार उपग्रह छोड़े जाते है वो इसी मंडल में ही छोड़े जाते है |

👉 2 – आयन मंडल – यह परत लगभग 80 से 640 के मध्य पाई जाती है इस मंडल में अपने एक विशेष गुण के कारण इसमे आयनिकरण गुण पाए जाते है जिससे कोई भी इलेक्ट्रोनिक किरण टकराकर वापस पृथ्वी पर आ जाती है |

👉 3 – मध्य मंडल – यह मंडल समताप मंडल से शुरू होकर आयन मंडल तक लगभग 50 से 80 किलोमीटर के मध्य में फेला रहता है तथा इसी परत में सबसे कम तापमान पाया जाता है |उल्का सम्बघित घटना इसी मंडल में होती है |

👉 4 – समताप मंडल – यह मंडल क्षोभ मंडल से शुरू होता है तथा लगभग 50 किलोमीटर तक होता है इस मंडल में कोई मोसमी घटनाए संचालित नही होती है इसलिए यह मंडल वायु यान के लिए सबसे अच्छा मंडल माना जाता है तथा इसी मंडल में ओजोन परत पाई जाती जो पराबेगनी विकिरण को पृथ्वी पर आने से रोकती है | अत: इस मंडल को एक सुरक्षा चक्र के रूप में भी जाना जाता है

👉 5 – क्षोभ मंडल – यह मंडल हमारी पृथ्वी के सबसे पास में मोजूद होता है तथा यह मंडल हमारे ध्रुव पर कम तथा विषुवत पर ज्यादा होता है इसी मंडल में सभी मोसमी गतिविधिया संचालित होती है इस मंडल में ही सभी भारी गैसे पाई जाती है तथा सभी मोसम संबंधित कियाए यही संचालित होती है जेसे – आंधी आना , पानी बरसना , बिजली चमकना आदि घटना होना |

इस मंडल में जेसे – जेसे उचाई बढती है तापमान घटता जाता है याने जेसे – जेसे उचाई पर जायेगे तापमान घटना शुरू हो जायेगा गर्मी के दिनों में क्षोभ मंडल की उचाई बड जाती है व जाड़े के दिनों में क्षोभ मंडल की उचाई घट जाती है

यह भी पढ़े –

वायुमंडल में पाई जाने वाली महत्वपूर्ण गैस कौन कौन सी है

वायुमंडल में निम्न लिखित प्रमुख गैसे पाई जाती है –

  • नाइट्रोजन – 78.8%
  • आक्सीजन – 20.95%
  • आर्गन – 0.93%
  • कार्बन डाई आक्साइड – 0.036%
  • निआन – 0.002%
  • हीलियम – 0.0005%
  • क्रिप्टोन – 0.001%
  • जिनान – 0.00009%
  • हाईड्रोजन – 0.00005%

👉 नाइट्रोजन – यह गैस स्वादहीन , रंगहीन व गंधहीन गैस होती है तथा इसकी प्रतिशत मात्रा अन्य गैसों से अत्यधिक रहती है इस गैस की प्रतिशत मात्रा के आधार पर ही वायु यान की शक्ति व हवा का हमे आभास होना व प्रकाश के प्रवर्तन का आभास नाइट्रोजन की उपस्थिति के कारण ही संभव होता है नाइट्रोजन के कारण ही अग्नि को कंट्रोल करना मुमकिन है यह गैस वायु मंडल में करीबन 128 किलोमीटर तक इसका फेलाव रहता है |

👉 आक्सीजन – यह गैस मानव के लिए जीवन दायनी गैस मानी जाती है इस गैस के कारण ही कोई वस्तु जलने में सक्षम होती है और इस गैस के आभाव में ही कोई भी ईंधन नही जला सकते है अगर कोई ईंधन जलता है तो उर्जा का निर्माण होता है अत: यह गैस उर्जा निर्माण में मुख्य भूमिका निभाती है यह गैस लगभग 64 किलोमीटर की उचाई तक रहती है पर अधिक उचाई पर इसकी मात्रा कम होने लग जाती है

👉 कार्बन डाईआक्साइड – यह गैस सबसे निचली परत में मोजूद रहती है तथा भारी गैस के रूप में जनि जाती है यह लगभग 32 किलोमीटर की उचाई तक रहती है तथा वायुमंडल की निचली परत को गर्म रखती है यह गैस सूर्य से आने वाली हानिकारक किरणों को पृथ्वी पर पहुचने से नही रोकती है और परावर्तित होने वाली किरणों को नही जाने देती है यह गैस ग्रीनहाउस इफेक्ट के लिए जिम्मेदार है |

👉 ओजोन – यह गैस बहुत ज्यादा उचाई पर जाने में बहुत ही न्यूनतम रूप में पाई जाती है यह गैस सूर्य से आने वाली पराबेगनी विकिरण को पृथ्वी पर पहुचने से रोकती है पराबेगनी विकिरण की अधिकता होने पर बहुत सी भयानक बीमारिया जेसे केंसर जेसी बीमारियाँ पनपती है यह वायुमंडल में 10 से 50 किलोमीटर की ऊचाई तक फेली रहती है |

👉 जल वाष्प – इस गैस के कारण ही बादल ,तुषार ,कोहरा ,वर्षा , आदि का निर्माण होता है तथा यह गैस सूर्य के ताप का कुछ भाग को अवशोषित करती है यह गैस पृथ्वी को न ही ज्यादा गर्म और न ही ज्यादा ठंडा होने देता है जिससे जो तापमान है वो नियत रूप से चलता रहता है |

final Word – तो इस पोस्ट में हमने पढ़ा वायुमंडल किसे कहते है ( vayumandal kise kahate hain ) , वायुमंडल को कितने भागों में बंटा जाता है , वायुमंडल में कौन कौन सी गैसे पाई जाती है | उम्मीद करते है यह पोस्ट आपके लिए महत्वपूर्ण रही होगी कृपया इस पोस्ट को अपने साथियों के साथ भी जरुर शेयर करें और हमारे अगले पोस्ट की जानकारी पाने के लिए हमारा टेलीग्राम ग्रुप ज्वाइन करें |

यह भी पढ़े –

Leave a Comment

Your email address will not be published.

******** -------- *******

हमारी नई पोस्ट की जानकारी के लिए हमसे टेलीग्राम पर जुड़े

Join Telegram

error: मेहनत कीजिये , ऐसे कॉपी पेस्ट करने से कुछ नही मिलेगा !!